बहुत प्यारी शायरी | latest hindi shayari collection



लिख दूँ तो लफज हो तुम 
सोच लूँ तो ख्याल हो तुम
मांग लूँ तो मानत हो तुम 
और छह लूँ तो मुहबत हो तुम 

cute shayari collection

________________________________________

तुम्हारी यादों से यु नाता नहीं था 
पर तुम्हे भूल जाना हमें अत नहीं था 
यूँ तो उमर गुजरी है तुमसे पहले भी 
 तनहा मेरी 
मगर पहले अकेलापन हमें यु सताता नहीं था 
___________________________________________

कुछ हंस कर बोल दो 
कुछ हंस कर ताल 
परेशानिया तो बहुत है 
कुछ बक्त पर दाल दो 
_____________________________________________

बुराई वही करते है 
जो बराबरी 
नहीं कर सकते 

नज़र कुछ नहीं बस 
आपका दीदार मांगती है 
जिंदगी  अपने लिए कुछ नहीं बस 
आपके लिए दुआ हजार मांगती है 
__________________________________________

मैं जिंदगी गिरवी रख दूंगा 
तू बस कीमत बता मुस्कुराने की 

काश ये मुहबत भी तलाक की तरह होती 
तुम मेरी हो तुम मेरी हो तुम मेरी हो 
कह के तुम मेरी हो जाती 
____________________________________________

बस एक बात सीखी है जिंदगी में 
अपनों के करीब रहना है तो में रहो 
अपनों को करीब रखना है तो 
बात दिल पर मत लो 
___________________________________________


इक तूने ही मुझे अपना न समझा 
जमाना आज भी मुझे 
तेरा दीवाना कहता है 

तेरी मुहबत पे मेरा हक़ तो नहीं लेकिन 
जी करता है उमर भर तेरा इन्तजार करू 
___________________________________________

कितनी आसानी से कह दिया तूने 
जा अब मुझे भूल जा 
साफ़ साफ़ कह देते 
बहुत जी लिए जाओ अब मर जाओ 

प्यार तो सिर्फ प्यार है 
क्या पूरा क्या आधा 
दोनों की चाहत बेमिसाल है 
क्या मीरा क्या राधा 
_____________________________________________

बहुत दूर है मेरे शहर से तेरा शहर 
फिर हवा के हर झोंके से तेरा हाल पूछते है 
यादें बनकर जो रहते हो साथ मेरे 
तेरे इस अहसान का सो बार शुक्रिया 
________________________________________________

बस यही दो मसले जिंदगी भर न हल हुए 
न नींद पूरी हुयी न ख्वाब मुकल हुए 
बक्त ने कहा काश थोड़ा और सब्र होता 
सब्र ने कहा काश थोड़ा और बक्त होता 
__________________________________________________

तेरे बिना जीना मुश्किल है 
ये तुझे बताना और भी मुश्किल है 

मेरी मुहबत की न सही 
मेरे सलीके की दाद दे
तेरा जीकर रोज करते है 
तेरा नाम लिए बगैर 
______________________________________________________

जिस दिन पहचान जाओगे तुम 
मेरी मुहबत को 
रोओगे बहुत 
अपनी बेरुखी याद कर के 
____________________________________________

latest sorry shayari pic image for whatsapp
sorry shayari for whatsapp

हम  से  कोई  गिला  हो  जाये  तो  सॉरी 
आप  को  याद  न  कर  पाए  तो  सॉरी 
वैसे  दिल  से  आप  को  भूलेंगे  नहीं 
पर  हमारी  धड़कन  ही  रुक  जाये  तो  सॉरी 
____________________________________________________-


मरने वाले तो एक दिन मरते हैं 
रो वो मरते है जो किसी से 
बेपनाह मुहब्त करते है 
_____________________________________________________

आज बहुत दिनों बाद देखा उसे 
दिल तो नहीं भरा 
पर आंखे भर आयी 


कमाल का ताना दिया आज 
मंदिर में भगवन ने 
रोज मांगने ही एते हो कभी मिलने भी आया करो 
________________________________________________________


दुश्मन बनाने के लिए जरुरी नहीं 
की सब से लड़ा जाये 
आप थोड़े कामयाब हो जाओ 
वो आपको खिजरत में मिल जाएँगे

नींद ए या न आये 
चिराग बुझा दिया करो 
यु रात भर किसी का जलना 
हमसे देखा नहीं जाता  
____________________________________________________

जिसका नाम है मुहबत 
वो तो कैद है यारो 
उम्र गुजर जाती है 
सजा पूरी नहीं होती


जिसके सपनो में मैं रोज आया करता था 
आज वो मेरे लिए एक सपना बनकर रह गयी 
______________________________________________________

फुर्सत मिले तो आना 
कभी दिल की गलिओं तक 
हम ढकने में अपनी 
तुम्हारा नाम सुनाएंगे 

इन्तजार तो प्यार में वही कर सकता है 
जिसने प्यार दिल से किया हो 
__________________________________________________

किन लफ्जो में लिखूं 
मैं अपने इंतज़ार को 
बेजुबान सा इश्क 
ख़ामोशी से तुम्हे ढूढ़ता है 

तोडना था तो सांसे तोड़ जाते 
सिर्फ दिल तोड़ कर क्या मिला 
____________________________________________________

तुझको खबर नहीं 
पर एक बात सुन ले 
बर्बाद कर दिया तेरे 
कुछ दिनों के प्यार ने 


कुछ इस तरह बस गए हो राग राग में
खुद से पहले अहसास तुम्हारा होता है 
________________________________________________________

मुहबत साथ हो ये जरुरी नहीं 
मुहबत जिंदगी भर हो ये जरुरी है 

एक बात पूछीं क्यों चले जाते हैं 
कुछ लोग दिल तोड़ कर 
__________________________________________________________

मुझे इशक तेरी हर बात से है 
जैसे सूरज को सुबह से 
और चाँद को इश्क रात से है 

जब लोग आपसे मुकावला नहीं कर सकते 
तो वो आपसे नफरत करने लग जाते है 
_____________________________________________________


सबका दिल  रखने में 
अक्सर अपना दिल टूट जाता है 
___________________________________________________-


"ख़ुशी  मिली  है  न  सके , ग़म   मिला  रो  न  सके ,
ज़िन्दगी  का  एहि  दस्तूर  है ,
जिसे  चाहा  उसे  प्  न  सके ,
और  जिसे  पाया  उसे  छह  न  सके 

>