मिर्जा गालिब शायरी Mirza ghalib ki shayari hindi

Best ghalib shayari , sad ghalib shayari, ghalib ki shayari, mirza ghalib shayari on life,ghalib shayari on love. ghalib romantic shayari


मिर्जा गालिब शायरी  mirza ghalib ki shayari hindi उर्दू शायरी के महान शायर मिर्ज़ा ग़ालिब  का जनम 27  सितम्बर 1797 को आगरा में हुआ था उनकी पत्नी का नाम उमराओ बेगम था.मिर्ज़ा ग़ालिब के पूर्वज उज़्बेकिस्तान से भारत आए थे. 


परन्तु उनके द्वारा लिखी गयी शायरी और गज़ले आज भी उतने भी प्रसिद्ध है जितने पहले हुआ करते थे .इस आर्टिकल में हम आपके लिए मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ मशहूर शायरी शेयर कर रहे हैं. आहार आपको पसंद आए तो व्हाट्सप्प और फेसबुक पर शये जरूर करें.


कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,

तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता !


mirza galib best shayari

 तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान,झूठ जाना

कि ख़ुशी से मर न जाते अगर एतबार होता


tere wade pe jiye hum, to ye jaan jhuth jana

ki khushi se mar n jate agar aitvar hota

Ghalib shayari Hindi

न वो आ सके , न हम कभी जा सके ,

न दर्द दिल का किसीको सुना सके

बस खामोश बैठे है उसकी यादों में ,

न उसने याद किया न हम उसे भुला सके


mirza galib shayari hindi


n wo aa sake n hum kahi ja sake

n dard dil ka kisi ko suna sake

bas khamosh baithe hai uski yaado me

n usne yaad kiya n hum bhula sake

 इन्हे भी पढ़ें:- 👉 350+ Love shayari in hindi

चाँद मत मांग मेरे चाँद जमीं पर रहकर

खुद को पहचान मेरी जान खुदी में रहकर


chand mat mang mere chand jamin par rah kar

khudh ko pahchan meri jaan khudi me rah kar


जब लगा था तीर तब इतना दर्द न हुआ ग़ालिब

ज़ख्म का एहसास तब हुआ 

जब कमान देखी अपनों के हाथ में


jab lgaa tha teer tab dard itna n hua ghalib

jakham ka ahsaas tab hua 

jab kmaan dekhi apno ke hath me 

Ghalib shayari Hindi

क़ैद में है तेरे वहशी को वही ज़ुल्फ़ की याद

हां कुछ इक रंज गरां बारी-ए-ज़ंजीर भी था.


kaid me hai tere wahshi ko wahi julf ki yaad

ha kuchh ik ranj gra bari ae janjir bhi tha


बेचैन इस क़दर था कि सोया न रात भर

पलकों से लिख रहा था तेरा नाम चाँद पर


मिर्ज़ा galib ki shayari download


bechain is kadar tha ki wo soya n rat bhar

palko se likh raha tha tera nam chand par


मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का उसी

को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले


muhabbat me nahi fark jine or marne ka usi

ko dekh kar jite hai jis' kafir pe dum nikle


रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज।

मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं।


ranj se khugar hua insa to mit jata hai ranj

mushkile mujh par padi itni ki asa hoi gayi


हम न बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ,

जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा।


hum n badlenge waqt ki raftar ke sath

jab bhi milenge andaz purana hoga


हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो,

भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो।


mirza shayari hindi


haqiqat n sahi tum khwab bankar mila karo

bhatke musafir ko chandni raat bankar mila karo


हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन

दिल को खुश रखने को ग़ालिब यह ख्याल अच्छा है


humko malum hai janat ki haqeeqat lekin

dil ko khush rakhne ka ghalib ye khyal achha hai 


मेरे मरने का एलान हुआ तो उसने भी यह कह दिया,

अच्छा हुआ मर गया बहुत उदास रहता था


mere marne ka ailan hua to usne bhi ye kah diya 

achha hua mar gyabahut udas rahta tha


जब ख़ुशी मिली तो कई दर्द मुझसे रूठ गए,

दुआ करो कि मैं फिर से उदास हो जाऊं.


jab khushi mili to kayi dard mujh se ruth gaye

dua karo ki mai fir se udas ho jau


हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब

नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते


hatho ki akiron pe mat ja ai ghalib

naseeb unke bhi hote hai jinke hath nahi hote


क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां

रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन


karz ki  pite the may lekinsamjhte the ki ha

rang layegi hmari faka masti ek din


ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते

कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर।


jindagi se hum apni kuchh udhar nahi lete

kafan bhi lete hai to apni jindagi dekar


इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश है ग़ालिब

कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे


ishak pr zor nahi hai ye wo atish hai ghalib

ki jo lgaye n lage bujhaye n bujhe 


उदासी पकड़ ही नहीं पाते लोग

इतना संभाल कर मुस्कुराते है हम


udasi pakad hi nahi pate 

itna sambhal kar muskurate hai hum


न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता

डुबोया मुझ को होने ने, न होता मैं तो क्या होता


n tha kuchh to khuda than hota to khuda hota

duboya mujhko hone ne, n hota to kya hota


कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में

पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते


kitna khof hota hai sham ke andhere me

poochh un parindo se jinke ghar nahi hote


उन के देखने  से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़

वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है


unke dekhne se jo aa jati hai muh par ronak 

wo samjhte hai ki bimar ka haal achha hai


हम तो फना हो गए उसकी आंखे देखकर गालिब

न जाने वो आइना कैसे देखते होंगे


फना हो गए उसकी आंखे देखकर गालिब  shayari


hum to fna ho haye unki ankhe dekh kar ghalib

n jane wo aina kaise dekhte honge


वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,

उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया


wo raste jin pe koe silwat n pad saki

un rasto ko mod kar sirhane rakh liya


अक़्ल वालों के मुक़द्दर में यह जूनून कहाँ ग़ालिब 

यह इश्क़ वाले हैं, जो हर चीज़ लूटा देते हैं.


akal walo ke mukaddar me yah janun kaha ghalib

ye ishak wale hai jo har cheej luta dete hai


इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,

दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।


ishak se tabiyat ne jisat ka mja paya

dard ki dwa dard be dwa paya

Ghalib Sad shayari

फ़िक्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूँ

मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ


fiker ae duniya me sar khapata hu

mai kaha or ye babal kaha


चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन

हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है


chipak raha hai badan par lahu se pairahan

hmari jeb ko ab hajat ae rafu kya


रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’।

कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था।


rekhte ke tumhi ustad nahi ghalib

kahte hai agle jmane me koe mir bhi tha


इतना दर्द न दिया कर ए ज़िन्दगी

इश्क़ किया है कोई क़त्ल नहीं


इतना दर्द न दिया कर galib shayari photo


itna dard n diya kar jindagi

ishak kiya hai koe katal nahi


फिर उसी बेवफा पे मरते हैं 

फिर वही ज़िन्दगी हमारी है 

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’

कुछ तो है जिस की पर्दादारी है


fir usi bewafa pe marte hai 

fir wahi jindagi hmari hai

bekhudi bebas nahi ghalib

kuchh to hai jiski prdadari hai


kuchh to tanhayi ki rato me sahara hota

tum n hote n sahi jikar tumhara hota

Ghalib Love shayari

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम 

कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले.


khuda ke baste parda n rukhsar se utha jalim

kahi aisa n ho jaha bhi wahi kafir sanam nikle


हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे

कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और


hain or bhi duniya me sukhan var bahut achhe

kahte hai ki ghalib ka hai andaze bya or


तुम वो भी महसूस कर लिया करो ना

जो हम तुमसे कह नहीं पाते हैं।


tum wo bhi mahsoos kar liya karo n

jo hum tumse kah nahi pate


वो आये घर में  हमारे , खुदा की कुदरत है 

कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं


wo aye ghar pe hmarekhuda ki kudrat hai 

kabhi hum unko kabhi apne ghar ko dekhte hai


रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,

जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है.


rago ke dodte firne ke hum nahi kayel

jo ankh hi se n tapke to fir lahu kya hai

Ghalib shayari on Life

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है

मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है


khud ko manwane ka mujh ko bhi hunar ata hai

mai wah katra hu samandr mere ghar ata hai


तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,

ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है 


ये उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है  mirza sahaeb ki shayari


Tu mila hai to ye ahsas hua hai mujhko

ye meri umar muhabat ke liye thodi hai


जरा सी छेद क्या हुई मेरे जेब में

सिक्कों से ज्यादा तो रिश्तेदार गिर गए


jra si chhed kya huyi meri jeb me 

sikko se jyada rishte dar gir gaye

Ghalib Best shayari

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए,

दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए


dar jab dil me ho to dwa kijiye

dil hi jab dard ho to kya kijiye


गुज़रे हुए लम्हों को मैं इक बार तो जी लूँ,

कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं.


mirza galib sad shayari

gujre huye lamho ko mai ik bar to ji lu
kuchh khawab teri yad dilane ke liye hai


 इन्हे भी पढ़ें:- 

👉 Love Quotes In Hindi

👉 Quotes For Students

👉 Love Quotes Hindi

👉 धमाकेदार ऐटिटूड शायरी 

Final Words:-

Mirza ghalib shayari in hindi, mirza ghalib shayari, ghalib best shayari, ghalib sad shayari

 


और नया पुराने