उमस का कहर शायरी Umas ka kahar shayari

दोस्तों आपका स्वागत हैं हमारे वेबसाइट में यहाँ आपको ढेर सारी हिंदी शायरी का कलेक्शन मिलेगा जिसे आप जब चाहें पढ सकते हैं. आज हम आपके लिए उमस पर बहुत शानदार शायरी लेकर आए हैं. गर्मिओं भरे जून के महीने के ख़तम होने के बाद जब जुलाई के महीने में बरसात होती न उसके बाद जो  उमस का  कहर होता हैं वो सहन नहीं होता. गर्मिओं के दिन तो कट जाते हैं पर उमस भरी रातें नहीं कटती 


आती नहीं नींद सारी रात करवटें बदलते हैं

मखमली बिस्तर काटों से चुभते हैं अब तो 

 ये मुहब्बत का नहीं उमस का कहर  है यारो


umas par shayari umas ka jahar

वो सर्दी में भी दगा देती हैं 

वो गर्मी में भी दगा देती हैं 

ये पानी की टंकी बड़ी  बेवफा होता हे 

जो हर मौसम में सजा देता हे। 


उफ्फ तेरी यादे और यह उमस

दोनो बेहिसाब भिगोती है मुझे.

तेरी याद में आंखे भीगती हैं 

और उमस से बदन 


इन्हे भी पढ़ें:- सब चीज़ तो अच्छी है पर एक क़हर है उमस

और नया पुराने