ghar par raho surakshit raho



ghar par raho surakshit raho




इन्सान की चाहत है कि उड़ने को पर मिले,
और परिंदे सोचते हैं कि रहने को घर मिले




घर पर रहो सुरक्षित रहो









Post a Comment

Previous Post Next Post