BEST HINDI DARD BHARI SHAYARI IMAGE WHATSAPP KE LIYE

Dard bhari shayari hindi mai,shayari dard bhari download दर्द भरी शायरी डाउनलोड फोटो इमेज ,व्हाट्सप्प के लिए दर्द भरी शायरी ,बेस्ट दर्द भरी शायरी सिर्फ आपके लिए  hindi,dard bhari shayari in hindi with images,


dard bhari shayari in hindi with images,


उनकी  आवाज़ सुनने को तड़पता  है  दिल,
हर पल गमे जुदाई मे घुटता है ये  दिल,
ना जाने कब नज़र के सामने वो, आ जाये 
बस इसी  उम्मीद पे हर पल धड़कता है  दिल.


dard bhari shayari in hindi with images,


उससे  कह  दो  मुझे यूँ  सतना  छोड़  दे ,
दुसरो  के  साथ  रहकर   मुझे  जलना  छोड़  दे ,
या  तो  कह दे   मुझसे  मुहबत   नहीं ,
या मुझे   गुज़रते  हुए  देख    मुस्कुराना  छोड़  दे


dard bhari shayari in hindi with images,


ऐ  महोब्बत . न  जाना  कभी  दूर  इतना
के  वक़्त  के  फैंसले  पर   अफ़सोस  हो
क्या  पता  फिर   तुम  आओ  लौट  कर .
और  यह  जिस्म   मिटटी  में  खामोश  हो .


dard bhari shayari in hindi with images,


दिन हुआ है  तो रात भी होगी
उदास मत हो  कभी तो बात  होगी
इतने प्यार  से दोस्ती की है
ज़िन्दगी रही तो मुलाक़ात भी होगी


dard bhari shayari in hindi with images,


बहुत अजीब सिलसिले है मोहब्बत के सफर  में
कोई वफ़ा के लिए रोया तो कोई वफ़ा कर के रोया


क्यों  कफ़न उठाते हो रुख से बार बार
क्या करोगी मेरा जला हुआ दिल लेकर
माना की बड़ा ही खुबसूरत हुस्न है तेरा
लेकिन दिल भी होता तो क्या बात होती

मौत ने भी न अपनाया  मुझे 
यारों जिंदगी के ठुकराने के बाद
एक ही चाहत  थी जिंदगी  में मेरी 
वह भी मिट गई उसके जाने के बाद


वक़्त गुजरेगा हम बिखर जायेंगे,
खुदा  जाने हम किधर जायेंगे, 
हम आपका साया है  रखना  याद 
तनहाई जहाँ  होगी  वहाँ हम नज़र आयेंगे


hr chehre me tasveer teri nazar ati hai love shayari


हाथों  में तेरे  मुझे अपनी, 
 तकदीर नजर आती है 
देखूं  जो भी चेहरा मैं 
तेरी तस्वीर नजर आती है


शिकवे तो बहुत है  तुम्हे बताने  के लिए
वक्त कम है पास मेरे ,कुछ जताने  लिए 
तेरे इंतजार मैं ,मुझे मौत भी आ गई 
आंखें रहेंगी खुली, तुम्हें तड़पाने  के लिए 


नज़रों से दिल दर्द प्यार की शायरी हिंदी


 दिल का क्या करें ,जो उन्हें ही पुकारता है
हर पल उनकी  ही ,तस्वीर को निहारता है 
शायद कभी तो वो ,मुझसे मिलने को आएंगे
इसी उम्मीद पे  हर शाम  गुजारता है 


इशक  से पहले मैं शायर ना था
तेरे ठुकराने से पहले मैं कायर  ना था
तेरी बेरुखी ने सिखा दी हमें शायरी
गम  उठाने से पहले मैं शायर ना था

Post a Comment

Previous Post Next Post